स्मरण शक्ति के कुछ तथ्य जो आप नहीं जानते होंगे


स्मरण शक्ति के बिना, हमारे जीवन का कोई आधार नहीं है। यही वह शक्ति है जो हमारे जीवन को व्यवस्थित रखती है। शायद ही हम में से कई ने इस शक्ति के महत्व को महसूस किया है और यह केवल स्वाभाविक है कि ऐसा होना चाहिए क्योंकि हम कभी इस पर ध्यान नहीं देते हैं।

तो चलिए आज हम आपको इस स्मृति की शक्तियों और तथ्यों से अवगत कराते हैं।

स्मरण शक्ति के कुछ तथ्य जो आप नहीं जानते होंगे


स्मरण शक्ति के तथ्य
1.     बच्चे के जन्म के 20 सप्ताह बाद, स्मरण शक्ति बनना शुरू हो जाती है। यह पहले इसका कोई अस्तित्व नहीं होता है।
2.     हमारे दिमाग में हम उन सभी चीजों को समाहित कर सकते हैं जिनकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। सीधे शब्दों में, यह कहा जा सकता है कि आपके पास दिमाग में कभी ऐसी स्थिति नहीं आती जहां आपको लगता है कि आपके पास अब याद करने के लिए कोई जगह नहीं है।
3.     हमारी याददाश्त को मजबूत रखने के लिए सोना बहुत जरूरी है, इसके बिना हमारी याददाश्त नष्ट होने लगती है।
4.     वृद्ध लोगों की याददाश्त क्षीण होती है क्योंकि जब कोई व्यक्ति शारीरिक रूप से अक्षम हो जाता है, तो यह उसके मस्तिष्क के उपयोग को कम कर देता है। जो सीधे स्मरण शक्ति को प्रभावित करता है।
5.     अक्सर हम कुछ कुछ चीज़ों के बारें ऐसा सोचते हैं जो कभी नहीं होता लेकिन सोचने के बाद हम वैसा करते भी हैं। यह एक मानसिक विकृति है।
6.     आमतौर पर से देखी गयी चीज़ें हमें लंबे समय तक याद रहती हैं।
7.     आप जितना बेहतर सोचेंगे, आपकी याददाश्त उतनी ही बेहतर होगी।
8.     भावों के साथ बोलकर आप अपनी याददाश्त को मजबूत कर सकते हैं।
9.     हमारे दिमाग इस तरह से बना होता लेते हैं जो हमारे बचपन के शुरुआती दिनों को अपनेआप भूल जाते हैं।
10.  अक्सर ऐसा होता है कि जब हम दरवाजे से अंदर जाते हैं, तो हम याद करा हुआ कुछ भी उसे भूल जाते हैं।
11.  यदि आपको पर्याप्त नींद नहीं मिलती है, तो हो सकता है कि आपको कुछ ऐसा याद हो जो कभी नहीं हुआ हो।
12.  जब भी हम कुछ नया सोचते हैं या याद करते हैं, तो मन में कई नई तरंगें उठती हैं।
13.  यह बहुत अजीब है कि हम बुरी घटनाओं को अच्छी तरह से याद करते हैं जब हम अच्छी चीजों को भूल जाते हैं।
14.  अधिक शराब पीने से अगली सुबह हमें कुछ भी याद नहीं रहता है और हमें लगता है कि हम रात की बात भूल गए हैं लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं होता है, वास्तव में हमारा मस्तिष्क बहुत अधिक शराब पीने से याददाश्त विकसित नहीं कर सकता है और इस प्रकार हमारा मस्तिष्क ठीक से चीज़ों को याद नहीं रख पाता।
15.  लगभग 90 मिनट तक लगातार पसीना में रहने की स्थिति में आप हमेशा के लिये एक मनोरोगी बन सकते हैं।

दोस्तोंनॉलेज गुरु को उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी और यह उपयोगी लगी होगी।
इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया जैसे फेसबुकव्हाट्सएपइंस्टाग्राम पर शेयर करें।

Thank you.

एम्बुलेंस पर नाम उल्‍टा क्यों लिखा जाता है?



Post a Comment

If you have any doubt, please let me know.

[blogger]

Knowledge Guru

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget